Thursday, August 28, 2014

Take Back Control Of Your Life

A No-Nonsense Way To Get The Results You Want...

So SIMPLE, So POWERFUL and So EFFECTIVE you'll gladly toss aside every other so called self-improvement or Law of Attraction program you've every purchased.

Testimonial for The Secret To Deliberate Creation
Fact is, most of what is being taught about “Manifestation” and the “Law of Attraction” borders on metaphysical malpractice.
I’ll even go on record right here, right now in front of the whole Law of Attraction community and say…
I believe that… if there were a board of review, like there is for most practicing professionals; they’d be very busy shutting down a lot of these so called masters and doctors.
Because, after listening to the manifestation experts you may have been led to believe that all you have to do to "manifest your dreams" is to set your intention, send out positive thoughts, and believe the Universe will magically provide it for you.
Then you’re told to keep repeating this process until the manifestation has happened. In other words, what they are saying is… “If my XYZ Secrets to Manifestation don’t work, it’s because you didn’t stick with it long enough.”
Well, it’s time someone finally shot straight with you…
I'm here to tell you: If you approach manifesting what you want the way most of these “experts” tell you to, then you will be very disappointed.
Let me be even more blunt in case you missed it…
Books and programs like the “Secret” are insufficient. Period.
While it is important to set your intention, think positively and have a strong belief, it only represents a part of what you must do to deliberately create the things you desire.
Because, first of all…

Manifestation Is About Alignment...

Before we go any further, please understand that I cannot give you everything you need to know in a short one page letter like this one.
However, I can show you the differences you need to look for in a worthwhile program and why I might be the guy to help you finally get what you want, when you want and for whatever reason you want.
So, back to the alignment thing…
Let’s clarify what "alignment" really means because I see people using this term without really explaining it.

Alignment Occurs On Two Levels:

1. Alignment with the Laws of Quantum Physics

In short, in the world of Quantum Physics - thoughts (positive or negative) attract their equivalent or vibrational match. Think good thoughts attract good things. Think bad, negative or needy thoughts and you’ll attract bad, negativity and need.
Because, whatever you focus on with intensity and emotion will set the Universe in motion to bring that into your life.
Emotion is a key there. Most of us send out far stronger emotional signals about the things we don't want than those we do want.
And that’s normal. It’s how you and I are wired and it takes very deliberate thinking to overcome our emotional hard-wiring.
But thankfully, it can be done. (Don’t worry if this seems a little strange to you right now. I’ll give you plenty of real life examples in our certification course)

2. Conscious and Subconscious Alignment

Your Conscious desires and your Subconscious intention must be in alignment.
If your Conscious Mind wants one thing and your Subconscious Mind wants something else (counter-intention) it is impossible to create what you truly want.
Sure, you can temporarily trick yourself into getting something while you are out of alignment, but in the end it never lasts.
For instance…
Maybe you get a new job but soon you’re right back where you were before –barely scraping by and miserable.
Or maybe you stumble into some money or even create some money through a side business. But soon it too disappears. You chalk it up to the cliché: “easy come easy go.”
But I’m here to tell you, that’s a lie! The Truth is it’s just as easy to keep whatever you get once you are in alignment.
Doesn’t this idea of alignment explain a lot of the ups and owns in your life?
Listen, I’ve been studying this idea for the last 30 years and I can tell you science is teaching us more and more every day about the relationship between our conscious and sub-conscious minds.
That’s why it is critical that whomever you decide to get your manifestation and self-improvement ideas from knows how to apply this tidal wave of new information.
You must choose a teacher that can separate scientific fact from scientific opinion. You need someone, like me, who gets excited about combing through page after page of scientific studies and journals for any little insight that others might miss.
Just sharing these ideas with you gets me excited. There’s so much I want to share with you…
But perhaps I need to back-up and let you in on…

How To Finally Take Back Control Of Your Life...
And Get Unstuck Forever!

What we are talking about is taking control of your life.
Let’s see if I can explain it like this…
Cars have driver’s seats and passenger seats. Passengers have no power or control over what happens in the car, right? It’s the drivers who have all the power and control. 
When you are in default mode, you are an Unconscious Creator… you are in the passenger seat.
But when you become a Conscious Deliberate Creator, you have the opportunity to jump into the driver’s seat and take control of your life.

When you do that, you will be guided to the right people, circumstances, conditions and opportunities that are in alignment with what you truly desire.
Once you collapse the limited beliefs and habitual patterns that have you locked into limitation, you will KNOW at a very deep inner level that you will never have to worry about creating anything you desire again.
The Secret of Deliberate Creation Course is like driver’s education for your life.
Thank you for your time and I look forward to your exciting stories of transformation and manifestation.
Your Friend,
Signature image for Dr. Robert Anthony
Dr. Robert Anthony
(A part of an email for promotion)

Friday, March 21, 2014

Theta Meditation

Theta Meditation - So What Is it?

Theta Meditation is one of the most advanced and modern forms of meditation that taps into your brainwaves to achieve a relaxed and calm state of mind. The Theta state of mind is associated with relaxation, heightened creativity and dreaminess.
Theta meditation produces brainwaves between 4-8 Hz, which is a very low frequency that can likely make you fall asleep or begin dreaming. Theta brain waves are predominant in children, artists, psychics and extroverts. With Theta meditation you can enhance your creativity and intuitiveness, become more expressive, build better relationships, get rid of stress and anxiety and so on.
Theta meditation allows you to experience the low frequency brain waves or the Theta state of mind, thus helping you achieve innumerable health benefits. There are several ways to create the Theta brainwaves and enjoy the fantastic health benefits it offers.

How to do Theta Meditation?

Yoga - With Pranayama and different Yogic Asanas, you can tap into the different frequencies of your brain including Theta brainwaves. Yoga can be an effective means to get into the state of Theta meditation and experience a relaxed and calm mind. Don't miss Yoga Basic Positions for more on this.
Meditation - Regular and prolonged meditation sessions can help in producing Theta brainwaves. With Theta meditation you can enjoy better creativity and learning abilities, heightened sense of intuitiveness, better focus & concentration, calm and quiet mind, speedy healing of your body and improved energy levels.
You can try out some free guided meditation scripts at Easy Meditation Techniques Brainwave Entrainment - This is probably the most effective and simplest methods of doing Theta meditation. It involves listening to MP3's, CD's or other audio downloads that use binaural, monaural beats or Isochronic beats. These provide the frequency that is needed by the brain to produce specific brainwaves, so you can quickly reach the Theta state.
You can choose any of the above methods to do theta meditation but whichever way you choose, just ensure that your mind is free of all thoughts. When you do theta meditation perfectly, you will be able to get rid of all the tensions, stress, emotional disorders and other blockages of your conscious mind completely - you will reach a state of absolute bliss and deep relaxation.

Benefits of Theta Meditation - At a Glance

  • Theta meditation has the following benefits:
  • Higher levels of creativity
  • Connect with the subconscious mind
  • Improved problem solving skills
  • Lower levels of stress and anxiety
  • Better learning abilities
  • Stronger immune system
  • Speedy healing
  • High energy levels
Theta brainwaves are also associated with psychic abilities, astral projection, past life regression therapy and so on. They can also balance the serotonin and other hormonal levels in your body and help treat various health problems such as insomnia, depression, fear, jet lag, lack of focus etc.
Practicing Theta meditation can not only improve your health and overall wellbeing, but can help you get in touch with your deepest can activate your subconscious mind and can turn your thoughts into reality. Theta meditation is a powerful means to achieve a healthy, rejuvenated and joyous state of mind instantly.

Thursday, January 23, 2014

"power of your subconcious mind" अवचेतन मन की शक्तियाँ

हमारा अवचेतन मन बहुत शक्तिशाली हैं |यह हमारे मन का ९०% भाग हैं किन्तु यह उस गाड़ी की भाति कार्य करता हैं जिसका ड्राईवर चेतन मन [१०%]हैं |आईये आज हम अवचेतन मन की शक्तियों के बारे में बात करतें हैं |

१]Riflex Action:-

मित्रों !अवचेतन मन की यह शक्ति हमे आपातकालीन स्थितियों से हमे बचाती हैं ,जैसे अग्नि पर पैर पड़ते ही अचानक हटा लेते हैं ,सांप को देखकर उलटे ही भाग खड़े होतें हैं |सीडी से गिरते गिरते संभल जातें हैं |पहले हम साईकिल सीखते हैं तो धीरे धीरे किन्तु जब हम पूरी तरह सीख जातें हैं तो लोगों से बात करते हुए भी सयिक्लिंग करते हैं |

२]टेलीपैथी :-

मित्रों! मुझे याद हैं कि २०१० में लखनऊ में मेरी एक मित्र  हुआ करती थी ,मुझे फोन करने की आदत कम थी ,क्यूंकि मेरे फोन में तब बैलेंस नही हुआ करता था ,तो मैं शान्ति से बैठ जाता और मन ही मन मित्र  को याद करता और कहता “मित्र  !मुझे फोन कर” एक से ५ मिनट के भीतर ही उधर से मित्र  का फोन आ जाता था | ईश्वर ने हमारे मन मस्तिष्क में एक TRANSMITTER और एक RECIEVER फिट कर रखा हैं जों इतना शक्तिशाली हैं की पूरे ब्रह्माण्ड में इतनी शक्तिशाली मशीन किसी इंसान ने नही बनायीं हैं |चूँकि हम इस मशीन को चलाना नही जानते इसलिए इसकी शक्तियों से अनजान हैं |

३]अंतरात्मा की आवाज़ [रडार –CONSCIENCENESS]:-

दोस्तों जब भी हम कोई गलत कार्य करतें हैं तो अंदर से आवाज़ आती हैं “ये गलत हैं”…भगवान ने इंसान को गलत कार्य से रोकने के लिए उसके भीतर यह रडार सेट कर रखा हैं जों अवचेतन मन के नियंत्रण में हैं |

४]यादशक्ति :-MEMORY के ३ स्टेप होते हैं :-

१]Ragister 2]Storage 3]Recalling
दोस्तों Ragister और Recalling चेतन मन की विषय वस्तु हैं |जबकि Storage अवचेतन मन से जुड़ा होता हैं |किन्तु यदि Storage सही से हुआ है तो Recalling आसान हो जाती है |

५]भावना का गुणांक [EMOTIONAL Quotient]:- दोस्तों भावना २ प्रकार की होती हैं –

१]सकारात्मक भावना:-प्रेम, दया, क्षमा, कृतज्ञता, प्रफुल्लता, Faith, Tolerance, करुणा|
२]नकारात्मक भावना :-डर, क्रोध, घृणा, ईर्ष्या, sadism, चिंता, निर्दयता आदि|
उच्च IQ ही सफलता का मानक नही हैं बल्कि EQव्यक्ति को सफल बनाता हैं |उच्च शिक्षित व्यक्ति कभी कभार कम EQ के कारण हमारे ORGANISATION को बड़ी हानि पहुंचाता हैं |मर्लिन मुनरो, अभिनेत्री दिव्या भारती, हिटलर, गुरुदत्त सभी बहुत उच्च IQ के थे पर इनमे EQ उच्च नही था |इन सबने आत्महत्या की थी|EQ बढ़ाने के लिए सकारात्मक भावनाओं को बढ़ाना होंगा |

6]Treasure of Knowledge[त्रिकाल ज्ञान]:-

हमारे अवचेतन मन से बहुत ,भविष्य ,वर्तमान कुछ भी नही छुपा हैं |यह त्रिकालदर्शी हैं ,यह भविष्य की घटनाओं को भांप लेता हैं और कभी कभार हमे चेताता भी हैं |संजय ने महाभारत की भविष्यवाणी इसी आधार पर की |इसी के आधार पर NOSTRADOMUS इतना प्रसिद्द हुआ |

७]प्रज्ञा/समझदारी /WISDOM:-

सही समय पर सही निर्णय लेना ही अवचेतन मन की विशेषता हैं |जब भी आप किसी गफलत में पढ़ने वाले हों निर्णय आप अवचेतन मन पर छोड़ दें यह आपके विश्वासों के अनुरूप सबसे उत्तम रिजल्ट लाएंगा|

८]आयोजन कर [PLANNING]:-

ज्यादातर प्लानिंग हम चेतन मन से करते हैं ..इसको ह्यूमन प्लानिंग कहते हैं ,जिसमे हम अक्सर फेल हों जाते हैं तब हम कहते हैं “man proposes but god disproposes”.भगवान का तो कुछ बिगाड़ नही सकते ,बिगाड़ सकते हैं तो सिर्फ अपना हीं|
किन्तु जब हम अर्धजग्रित मन से प्लानिंग करते हैं तो यह devine planning
होती हैं जों हर हाल में पूरा होती ही हैं |अक्सर मेरे लक्ष्य अर्धजग्रित मन द्वारा planned होते हैं |

9]अवसर खड़े करना [creats opportunity]:-

हमारा अर्द्ध जागृत मन हमारे लिए अवसर क्रियेट करता हैं |इलाहाबाद में मैं पढ़ा लिखा ,उस दौरान एक ऐसा समय आया था , जब मेरे पास पाकेट मनी तक नही थी,बाहर ना घूमने वा अंतर्मुखी स्वभाव के होने के कारण लोगों से पहचान तक नही थी |मैंने यह समस्या अवचेतन मन को सौंप दी |मुझे एक दिन प्रेरणा प्राप्त हुयी की मैं एक पुस्तक लिखूं ,पढ़ाई तकनीकों पर |मैंने लिखा परिणाम ये हुवा की वह पुस्तक हांथो हाथ बिकी |कालेजो से लेक्चर के लिए रिक्वेस्ट आने लगी |सैकड़ों छात्र मेरी क्लासेज में पढ़ने के लिए इस तरह से उतावले होते की जैसे मैं कोई बड़ी सेलेब्रटी{फिल्मस्टार} हूँ |मैंने अपनी खुद की कोचिंग बनायीं और खुद को इतना मजबूत बना लिया आर्थिक रूप से की आज मैं अपनी मेडिकल की फ़ीस खुद भर सकता हूँ |

१०]mental clock:-

दोस्तों हमारे अवचेतन मन के पास एक नैशर्गिक घड़ी हैं |जों हमे एक सही समय पर उठा देती हैं |मैं कभी अलार्म घड़ी सेट नही करता बल्कि अपने मन को कमांड दे देता हूँ की मुझे अमुक समय पर उठाना हैं मन विना देरी किये उठा देता हैं |

११]मानसिक कैलेंडर :-

मित्रों आपको जीवन में जों भी पाना हैं उसकी एक निर्धारित समय सीमा का उल्लेख जरुर किजीयें |तभी अवचेतन मन उस पर सही से कार्य कर पाएंगा |आपको कोई गोल किस वर्ष प्राप्त करना हैं ?कौन सी गाड़ी कब खरीदनी हैं ?सबका लिखित लेखा जोखा होना चाहिये ,यदि आप दुनिया की सबसे शक्तिशाली शक्ति को [अवचेतन मन ] को काम पर लगा रहें हों |…

१२]इच्छा-मृत्यु [control over death]:-

डॉ दीपक चोपड़ा ने एक पुस्तक लिखी हैं :”Ageless Body,Timeless Mind”जिसका सारंश यह हैं की अपनी मृत्यु हम खुद चुन सकतें हैं की कहाँ मरना हैं?कब मरना हैं ?किस स्थिति में मरना हैं ?..PLACE, MODE AND TIME….
दोस्तों ऐसे केस शायद आपने देखे होंगे जब डॉ ने रोगी को मरणासन्न स्थिति में घर भेज दिया हों और रोगी बच गया हों या डॉ ने कह दिया हों की अब तू मरने वाला हैं पर रोगी बच गया हों |डॉ भगवान नही हैं |ना ही हमारे अवचेतन मन से उसका मुकाबला हैं,kyunki ज्यादातर डॉ चेतन मन से इलाज करते हैं  |


मैंने एक ऐसा व्यक्ति देखा हैं जों लगातार सोच सोच कर अपने शरीर में कंसर उत्पन्न कर लिया था और कैंसर भी इतना भयानक की टाटा हास्पिटल मुम्बई के डाक्टरों ने जवाब दे दिया था |बाद में उसको लुईस हे की “YOU CAN HEAL YOUR LIFE” बुक मिली ,पढ़कर वह पूरी प्रोसेज समझ गया और अपने एहसास और भावनाओं को बदला ,फिर दो महीने बाद कैंसर जड़ से खत्म ही हों गया ,डॉ तो हैरान ही रह गयें |दुनिया की सबसे शक्तिशाली हीलिंग पावर हमारे अवचेतन मन के पास हैं यह कोई बीमारी उत्पन्न भी कर सकता हैं तथा प्रोसेज को रिवर्स कर ठीक भी कर सकता हैं |

१४]स्वास्थ्य :-

जब भी आप से कोई पूछता हैं -:कैसे हों”?आप क्या कहते हों “FINE”..यह कहने का तात्पर्य हैं आप अपने अवचेतन मन को कह रहें हैं की सब ठीक हैं कुछ करने की जरूरत नही हैं |अवचेतन मन हमारे AUTONOMOUS NERVOUS SYSTEM पर पूरा कंट्रोल रखता हैं ,जों की हमारे शरीर में पाचन ,श्रावण,हारमोन पैदा कर, नियंत्रण के लिए जिम्मेदार होता हैं जब भी हम चेतन मन के माध्यम से कोई भी निगेटिव कमांड अवचेतन मन को देते हैं तो बीमारी पैदा होतीं हैं |
आप कहिये जवाब में “BETTER AND BETTER”…यानी कल जितना अच्छा था आज उससे भी और ज्यादा अच्छा हूँ |


दोस्तों आपने विपशयना केन्द्र के बारे में सुना ही होंगा |इसके जों हेड हैं गोयनका जी ,उनको माईग्रेन की बीमारी थी |विपश्ना करने के बाद उनकी बीमारी पूरी तरह ठीक ही हों गयी |और फिर उन्होंने अपना उद्योग धंधा छोड़कर अपना पूरा जीवन इसी को दे दिया |विपश्यना यानि “मन की रिप्रोग्रम्मिंग” |

१६]क्रिएटिव थिंकिंग [CREATIVE THINKING]:-

Ordinary thinking:-चेतन मन से |
creative thinking:-अवचेतन मन से |
दोस्तों वाल्ट डिज्नी ,पंडित रविशंकर,लिनार्दो दा विन्ची आदि सभी ने क्रिएटिव थिंकिंग कर दुनिया को अनमोल रत्न दिया |लिनार्दो दा विन्ची को Wisest man of world  कहा जाता हैं |

१७]Control over every part of body:-

महान महर्षि योगी जिन्होंने श्री श्री रविशंकर और डॉ दीपक चोपड़ा को tm meditation सिखाया, जब खुद ध्यान में होतें थे तो हवा में उपर उठ जातें थे |इसको yogic flying कहतें हैं |हमारा अवचेतन मन परम शक्तिशाली हैं |इसका हमारे शरीर के हर भाग पर काबू होता हैं |

१८]सारे विश्व के उपर असर [influence over universe]

मित्र जब तानसेन ने दीपक राग’ गया तो आग भड़क उठी ,ताना रे रे ने राग मल्हार गाया तो बारिश होने लगी |सीता मईया के एक कमांड से धरती फट गयी और् सिर्फ राम नाम लिखने से पत्थर तैरने लगे !कौन सा विज्ञान यह सब की व्याख्या करता हैं |यह सब अवचेतन मन की शक्तिया हैं |
मेरे गुरू/आराध्य देव श्री श्री रविशंकर जब बंगलौर में अंतर्राष्ट्रीय आश्रम में होते हैं तब उनकी इच्छा से बादल आते हैं ,बरसते हैं |आप कभी भी आश्राम में आकर यह देख सकते हों |वहाँ के साप,विछुओ,हिंसक जानवरों तक में से हिंसा खत्म हों गयी हैं |वहाँ हमेशा हरियाली रहती हैं यह मेरे गुरू की अवचेतन मन की शक्तियों का एक छोटा नमूना मात्र हैं |

१९]अपार सर्जन शक्ति :-दोस्तों ताजमहल ,एफिल टावर ,रिलायंस ,आदि अपर सृजन शक्ति के उदाहरण हैं |हम सभी अवचेतन मन का इस्तेमाल कर अपनी मन पसंद श्रृष्टि निर्मित कर सकतें हैं |

२०]निजी भगवान :-

दोस्तों हर धर्म में भगवान से हम क्या चाहतें हैं –प्रेरणा,उर्जा ,मार्गदर्शन |यह सब अवचेतन मन हमे देता हैं इसलिए इसे मैं हरेक व्यक्ति का निजी भगवान कहता हूँ |

21]SQ[आध्यात्मिकता का अंक]:-

दोस्तों आपके अनुसार आध्यात्मिकता क्या हैं ?कमेन्ट के माध्यम से जरूर बतायियेंगा !
मेरे अनुसार मन ,वचन ,कर्म की एकरूपता ,जों औरो को खुश करें वही आध्यात्मिकता हैं |
मेरे हिसाब से आध्यात्मिकता क्या हैं ??
१]To do job with honesty
2]To repay a loan in time
3]to keep a promise
4]to maintain a value in business

२२]चुम्बकीय शक्ति [मैग्नेटिक पावर]:-

दोस्तों हम सभी एक चुम्बक हैं और अपने जीवन में हर उस चीज को खीच सकते हैं जों हमे पसंद हों |किन्तु इस मैग्नेट को हमे हमेशा चार्ज करते रहना होंगा |इसके लिए “शबरी तकनीक” अपनाना पड़ेगा |जैसे राम ..राम हमेशा शबरी करती गयी और राम को जाना ही पड़ा वैसे ही आपको जों चाहिये बस उसी के बारे मे सोचे ,करें |पैसा चाहिये तो पैसा पैसा पैसा …..पावर चाहिये तो पावर पावर …..अनथक अविरत करते रहे ..यह हर हाल में आपकी दुनिया में प्रकट होंगा |यह हर हाल में होंगा हीं|
-Dr. Ajay Kumar Yadav का आभार इस लेख के लिए.